हमारे टेलीग्राम ग्रुप से जुड़े यहां क्लिक करें

शरीर के अंगों की जानकारी | Gk in Hindi

समजातता (Homology) - ऐसे अंग जो विभिन्न कार्यों में उपयोग होने के कारण काफी आसमान हो सकते है, लेकिन उसकी मूल संरचना एवं भ्रुणिय प्रक्रिया में असमानता
शरीर के अंगों की जानकारी | Gk in Hindi

नमस्कार दोस्तों, हम आपका तहेदिल से स्वागत करते है। इस आर्टिकल में हम शरीर के अंगों की जानकारी के बारे में चर्चा करेंगे इस पोस्ट में हमने मानव शरीर अंग एवं जीवो के अंग से जुड़ी हुई जानकारी को शेयर किया है, जिन्हे पढ़कर आपको काफी जानकारी मिलेगी तथा अवशेषी अंग किसे कहते हैं के बारे में भी जान जायेंगे. क्योंकि इस आर्टिकल में शरीर के अवशेषी अंग के बारे में विस्तार पूर्वक बताया गया है तथा यह शरीर के अंग आपका General Knowledge भी बड़ा देंगे

शरीर के अंगों की जानकारी

जीवो के शरीर के अंगों को रचना के आधार पर 2 भागो में बांटा गया है -
  • समजातता (Homology)
  • समरूपता (Analogy)
समजातता क्या है
समजातता (Homology) - ऐसे अंग जो विभिन्न कार्यों में उपयोग होने के कारण काफी आसमान हो सकते है, लेकिन उसकी मूल संरचना एवं भ्रुणिय प्रक्रिया में असमानता होती है, समजात अंग (Homologus Organs) कहलाते है।

समरूपता क्या है
समरूपता (Analogy) - ऐसे अंग जो समान कार्यो में उपयोग होने के कारण दिखाई पड़ते हैं, लेकिन मूल संरचना एवं भ्रुणिय प्रक्रिया में भिन्नता पाई जाती है, समरूप अंग (Analogus Organs) कहलाते है।

समजात अंग,समरूप अंग

अवशेषी अंग 

विकसित जंतुओं में पाए जाने वाले कुछ स्पष्ट, किन्तु अर्धविकसित एवं अनुपयोगी अंगो के भाग अवशेषी अंग (Vestigial Organs) कहलाते है, जैसे कुछ प्रमुख अवशेषी अंग के उदाहरण निम्न है - शुतुरमुर्ग के पंख, ऑस्ट्रेलिया के एमू (Amu) के पंख, न्यूज़ीलैंड के कीवी के पंख आदि इनके पूर्वजों में पंख पूर्ण विकसित थे, लेकिन वातावरणीय प्रभाव के कारण एवम उनकी उपयोगिता समाप्त हो जाने के कारण अब ये अवशेषी अंगो के रूप में है।

प्रमुख बिंदु
  • मनुष्य में एपेंडिक्स (Appendix) अवशेषी अंग का उदाहरण है।
  • मानव में 180 अवशेषी अंग पाए जाते हैं।

एक टिप्पणी भेजें